आज मुस्लिम समुदाय नें बड़े ही सादगी के साथ मनाया बकरीद

रायपुर। आज मुस्लिम समाज ने सादगी के साथ बकरीद मनायी। इस मुबारक मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने बड़े ईदगाह में वतन और कौम की सलामती, तरक्की एवं अमन-चैन के लिए विशेष नमाज अदा कर अल्लाह ताला से दुआ मांगी। नमाज के बाद सभी ने गले मिलकर खुशी का इजहार करते हुए मुबारकबाद दी। अन्य धर्म के लोगों ने भी मुस्लिमों को मुबारकबाद दी। बाद नमाज मुस्लिम भाईयों ने कब्रिस्तान जाकर अपने बुर्जुगों की कब्रों पर फातिहा पढ़ी और फिर घर जाकर शुरू हुआ कुर्बानियों का सिलसिला। बकरीद को लेकर मुस्लिम जमात में सुबह से ही चहलपहल शुरू हो गई थी। आकर्षक ढंग से सुसज्जित मस्जिद में सुबह से देर रात तक गहमागहमी रही। इदुल फितर के मुबारक मौके पर परचम कुशाई के बाद तमाम लोगों की बरकत और मुल्क के लिए विशेष दुआ की गई। बकरीद के मौके पर आज समूचे बस्तर संभाग में तकरीबन पांच हजार बकरों की कुर्बानियां दी गयीं। ईद की नमाज सदर मस्जिद के ईमाम द्वारा अता करवायी गयी। युवा मुस्लिम समाज के पदाधिकारी अब्दुल वाहब खान एवं निजाम रहमान ने बताया कि अल्लाह की राह पर चलने वाले इब्राहिम की परीक्षा लेने जब अल्लाह ताला उनके पास पहुंचे और कहा कि जो तुम्हें सबसे अजीज है उसकी कुर्बानी दो, तब इब्राहिम ने कहा कि मुझे सबसे अजीज मेरा पुत्र है और उन्होंने अपने पुत्र हजरत ईस्माइल अली इस्लाम की कुर्बानी देने छूरा चलाया, लेकिन अल्लाह के रहमोकरम से उनका पुत्र जीवित रहा और उसी स्थान पर बकरे का सर आ गया, तभी से अल्लाह की राह पर चलने वाले समाज के लोग बकरीद पर नमाज के बाद बकरे की कुर्बानी देते आ रहे हैं। आज मनाया गया ईद-उल-जुहा का पर्व मुस्लिम समुदाय के लिए विशेष महत्व रखता है। इस्लामी माह जिलहिज्ज का चांद नजर आने से 12 तारीख तक के दिनों को अशरह ईद-उल-जुहा कहा जाता है। चांद की दस तारीख को ईद मनाई जाती है। इस्लाम के संस्थापक हजरत मुहम्मद ने ईद-उल-जुहा की सुबह खुत्बा, नमाज से पहले बोली जाने वाली तकरीर दिया और फरमाया कि ऐ मोमिनों, आज का दिन कुर्बानी का दिन है। सबसे पहले हम ईद की नमाज के लिए ईदगाह जाएंगे और ईद की नमाज पढेंग़े, खुत्बा सुनेंगे, उसके बाद कुर्बानी हो सकेगी। अगर किसी इंसान ने ईद की नमाज से पहले जानवर जिब्ह किया तो वह कुर्बानी न होगी, सिर्फ गोश्त खाने का जानवर होगा।

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *