बडी खबर:- सिंहदेव का ट्वीट- चुनावी घोषणा पत्र को लेकर कहा हम शर्मिंदा हैं- पढिये पूरी रपट

रायपुर।  छत्तीसगढ़ सरकार के कद्दावर मंत्री टीएस सिंहदेव के ट्वीट ने छत्तीसगढ़ की राजनीति में भूचाल ला दिया है।  कंग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता टीएस सिंहदेव ने ट्वीट करके कहा कि सभी बेरोजगार युवाओं संविदा कर्मियों , विद्या मितान ,  प्रेरकों एवं युवाओं की पीड़ा से मैं बहुत दुखी हूं। मंत्री टीएस सिंह देव ने यहां तक लिखा कि मैं शर्मिंदा भी हूं। हालांकि टीएस सिंहदेव ने  ट्वीट में यह भी लिखा  है कि घोषणा पत्र में किए हुए वादों को पूरा करने के लिए मैं अटल हूँ । सिंहदेव ने यह भी कहा की सरकार प्रयास कर रही है हम आपके साथ हैं और साथ रहेंगे।

अब बात आती है कि आखिर टीएस सिंहदेव किस तरह से जन घोषणा पत्र में किए हुए वादों को पूरा करेंगे सिंहदेव छत्तीसगढ़ सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं । जाहिर सी बात है कि कैबिनेट मंत्री सिर्फ अपने विभागों में ही निर्णय ले सकता है अन्य विभागों का निर्णय छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री या विभागीय मंत्री का विशेषाधिकार है।  ऐसे में टीएस सिंहदेव कितना सामंजस सरकार के साथ बैठा पाएंगे तथा सरकार घोषणा पत्र में किए हुए वादों पर कितना अमल करती है यह तो आने वाला वक्त ही तय करेगा। फ्रीहाल  सिंहदेव  के इस ट्वीट ने छत्तीसगढ़ की राजनीति में भूचाल ला दिया है।  तथा अब भारतीय जनता पार्टी भी  छत्तीसगढ़ सरकार को घोषणा पत्र में किए हुए वादों को लेकर घेरने के मूड में दिख रही है।  भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता पूर्व आईएएस ओपी चौधरी ने संविदा कर्मचारियों को नियमित करने को लेकर लगातार आंदोलन मे जुट गए हैं।

रास्ट्रीय कांग्रेश पार्टी सत्ता में आने से पहले कई महत्वपूर्ण घोषणा की थी जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने गंगाजल लेकर कसम खाई थी  घोषणा पत्र में किए हुए वादों को पूरा करेंगे। राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई सभाओं में घोषणा पत्र में किए वादों को जनता के समक्ष चीख – चीख कर रखा था। और पार्टी के द्वारा शहर के विभिन्न हिस्सों में होडिंग भी लगाया था।

अब सरकार का तकरीबन दूसरा साल बीतने को है जिसके कारण संविदा कर्मियों का धैर्य जबाब  देने लगा है । हाल ही में मुख्यमंत्री निवास पर एक युवक ने मिट्टी का तेल डालकर आत्महत्या करने की कोशिश की।  समाचार पत्रों तथा मीडिया की सुर्खियों के मुताबिक वह युवह बेरोजगारी से परेशान था। दबे स्वर में प्रदेश में कार्यरत लाखों संविदा कर्मचारी भी नियमितीकरण को लेकर धरना प्रदर्शन तथा आंदोलन करते आ रहे हैं। लेकिन अभी तक संविदा कर्मचारियो का नियमितीकरण ना होने की वजह से लाखों कर्मचारियों में रोष बढ़ता दिखाई दे रहा है।

अब बात करते हैं घोषणा पत्र में किए हुए दूसरे महत्वपूर्ण वादे की कांग्रेस पार्टी के द्वारा छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी की बात घोषणा पत्र में कही गई है । जिसको पूरा करने के लिए सरकार दूर-दूर तक कोई कदम नहीं उठा रही है। छत्तीसगढ़ प्रदेश के आबकारी मंत्री कवासी लखमा प्रदेश ने शराबबंदी को लेकर कई बार बयान दे चुके उनके बयानों से स्पष्ट  हो रहा है कि शराबबंदी को लेकर भी सरकार शायद ही कुछ बड़ा कदम उठा सके, अब देखना यह है कि टीएस सिंहदेव का यह ट्वीट कितना मायने रखता है और वे  चुनावी घोषणा पत्र में किए हुए वादे को पूरा करने में कितनी सफलता हासिल कर पाएंगे यह तो आने वाला वक्त ही तय करेगा।

इस घोर महामारी कोरोना संक्रमण के दौरान जहां पूरा देश लाकडाउन था प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक सोशल डिस्टेंसिंग की बात करते रहे । वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ प्रदेश में हजारों की संख्या में लाइन लगाकर प्रतिदिन लाखों लोग कई करोड़ों की शराब पी गए।  प्रदेश में  भले ही मूलभूत सुविधा आवागमन तक अभी  भी बाधित हो लेकिन शराब की दुकानें lock-down की महज 1 माह  मेे हीी खोलकर लाखों करोड़ों का राजस्व सरकार ने इकट्ठा किया गया । निश्चित ही टीएस सिंहदेव का यह ट्वीट सरकार के लिए बड़ा ही मुश्किल पैदा करने का संकेत दे रहा है।

 

 

 

 

 

 

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *