बिलासपुर एस पी अभिषेक मीणा ने चुनाव को देखते हुए 33 गुंडो बदमाश की तैयार की सूची

बिलासपुर। राजनीतिक, न्यायिक, व्यापारिक और बड़े शहर की दृष्टि से रायपुर राजधानी के बाद सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण जिला छत्तीसगढ़ का बिलासपुर आता है। यहाँ पर लायन आर्डर बनाये रखना बड़ी चुनौती होती है। सरकार भी यहाँ का पुलिस कप्तान सुलझे हुए आईपीएस को ही बनाती हैं। वर्तमान में चुनाव को देखते हुए पुलिस की भूमिका और महत्वपूर्ण हो जाती है।बिलासपुर में वर्तमान पदस्थ जिला पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा, शिक्षा से बीटेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियर) के कंधो पर यह जिम्मेदारी है, पुराना रिकॉर्ड देखते हुए इनके लिए यह जिम्मेदारी बड़ी नहीं है क्योकि इन्होने दो चुनाव नक्सल क्षेत्र प्रभावित नारायणपुर और सुकमा में पुलिस अधीक्षक रहते हुए शांतिपूर्वक करा चुके हैं। नक्सल क्षेत्र जहाँ पुलिस और सुरक्षा बल के लिए पल पल खतरा होता है ऐसी जगह पर इन्होने सुकमा एसपी रहते अपनी जान की परवाह न करते हुए बाइक से क्षेत्र का दौरा कर फ़ोर्स का हौसला बढ़ाया है। जबकि उस समय नक्सलियों के हिट लिस्ट में सबसे ऊपर नाम सुकमा एसपी अभिषेक मीणा का ही था। चुनाव के समय जिले में लायन आर्डर के सवाल पर श्री मीणा ने बताया, वर्तमान में पुलिस का प्रमुख एजेंडा निष्पक्ष बिना भय के लोकसभा चुनाव संपन्न करना हैं। बिलासपुर राजनैतिक संवेदनशील जिला है, जिसे देखते हुए हुए सभी निगरानीशुदा गुंडों और बदमाशों की लिस्ट तैयार की गयी है। बिलासपुर जिला के अंतर्गत गुंडा लिस्ट में 33 लोगों को शामिल किया गया है इसमें अभी और भी नाम जोड़े जा सकते हैं। 5 बदमाशों को जिला बलद की कार्यवाही के लिए भेजा गया है, इसमें भी आगे संख्या बढ़ सकती है।

पुलिस कप्तान की इस ताबड़तोड़ कार्यवाही और पुलिस की सक्रियता से जिले के गुंडे बदमाश सकते में आ गये हैं। ज्यादातर भूमिगत हो रहे हैं।

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *