किसानों को लगातार जलील कर रही कांग्रेस सरकार: भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष पूनम चन्द्राकर ने धान खरीदी केन्द्रों में लाखों क्विंटल धान खुले में पड़े और अब उनमें अंकुरण होने को लेकर प्रदेश सरकार की नीति व कार्यप्रणाली पर निशाना साधा है। श्री चन्द्राकर ने कहा कि किसानों की मेहनत से उपजा अन्न प्रदेश की अनमोल संपत्ति है और प्रदेश सरकार व उसकी नौकरशाही अपनी नाकामी के चलते इस अनमोल अन्न संपदा की रक्षा तक नहीं कर पा रही है जबकि दूसरी तरफ सरकार और अफसरों द्वारा तेजी से धान उठाव के दावे किए जा रहे हैं जो कि मैदानी स्तर पर कोरा झूठ साबित हो रहे हैं।
भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री चन्द्राकर ने कहा कि खरीदी केन्द्रों में धान उठाव के पुख्ता इंतजामात के सरकारी दावों का सच यह है कि अब भी प्रदेशभर में लाखों टन धान खरीदी केन्द्रों में जाम है और किसान इसके चलते अपना धान अब भी नहीं बेच पा रहे हैं। प्रदेश सरकार इन खरीदी केन्द्रों को बारदानों की समयबध्द पर्याप्त आपूर्ति की भी कोई व्यवस्था नहीं बना पाई है, और यह तथ्य भी किसानों को धान बेचने में दिक्कत पैदा कर रहा है। अकेले राजनांदगांव जिले में 27 लाख क्विंटल धान खुले में रखा होने के कारण अंकुरित होने लगा है। इस आधार पर पूरे प्रदेश की स्थिति का अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है। किसानों के लिए आपदा बन चुकी प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने इस वर्ष किसानों को जितना जलील और परेशान किया है, उससे प्रदेश में किसान व्यथित और खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। श्री चन्द्राकर ने कहा कि सरकार और नौकरशाह धान खरीदी को लेकर चाहे जितने झूठे दावे कर लें, जमीनी सच यही है कि प्रदेश सरकार अपने निर्धारित लक्ष्य का पूरा धान खरीदने से अब भी बचने की बदनीयती का परिचय दे रही है। हजारों किसान अब भी अपना धान नहीं बेच पाने के कारण परेशान हैं। महासमुंद जिले में एक किसान मोईनुद्दीन द्वारा किया जा आमरण अनशन सरकार को सच का आईना दिखा रहा है। किसानों के साथ इस दगाबाजी की कीमत प्रदेश सरकार को चुकानी ही पड़ेगी।
भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री चन्द्राकर ने प्रदेश सरकार को इस बात के लिए भी कोसा कि उसने तस्करी का धान खपने के मामलों को संजीदगी से नहीं लिया, जिसका खुलासा हाल ही एक समाचार पत्र में किया गया था। इसके उलट प्रदेश के छोटे लाइसेंसी धान व्यापारियों व किसानों का धान जब्त कर उन्हें चोर साबित करने पर आमादा प्रदेश सरकार व नौकरशाहों ने प्रदेश के किसानों के आत्म-सम्मान से खिलवाड़ किया। श्री चन्द्राकर ने मैनपुर (गरियाबंद) ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष के घर से ओड़िशा से तस्करी कर लाए गए लगभग 10 लाख रुपए मूल्य के धान की जब्ती का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार के राजनीतिक संरक्षण में एक तरफ उसी की पार्टी के नेता दूसरे राज्यों से धान की तस्करी करते रहे जबकि दूसरी तरफ प्रदेश सरकार किसानों के खेत-खलिहान व घरों में व्यापारियों की दुकानों में पुलिस भेजकर धान जब्ती कर अपने राजनीतिक दुराग्रह का प्रदर्शन करती रही।

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *