रुपयों से भरी मिली आलमारी, बुलाना बड़ा नोट गिनने की मशीन -छत्तिसगढ़ मे आयकर छापा

रायपुर, 1 मार्च 2020. देश में अब तक पढ़े सबसे बड़े छापे में हड़कंप मचा हुआ है. यह छापा सामान्य इनकम टैक्स या व्यापार में चुराए हुए टैक्स की रकम की बात नहीं है. सत्ता के करीबियों के यहाँ पड़े छापे ने पूरी तरह राजनीति में दहशत पैदा कर दिया है. अधिकारी डरे है क्या पता कब उनके घर रेड पड़ जाये।. कल कांग्रेसियों ने इसको लेकर धरना और इनकम टैक्स कार्यालय का घेराव भी किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली उड़े लेकिन मौसम खराबी की वजह से उनकी फ्लाइट जयपुर मोड़ दी गई. मुख्यमंत्री के लगभग सभी कार्यक्रम रद्द रहे हालाँकि सुबह उन्होंने एक कार्यक्रम में भाग लिया था जिसमे एजाज ढेबर नजर आये.

आईटी के बाद सीबीआई की दस्तक
उठापटक के बीच राज्य में सीबीआई भी प्रवेश कर गई है. देर रात मिली सूचना के आधार पर कई ठिकानों पर सीबीआई अपना काम चालू कर दी है. हालांकि राज्य में सीबीआई बैन है इसलिए वह प्रत्यक्ष रूप से कोई काम अभी तक नहीं कर रही है लेकिन बैकअप के रूप में काम चालू है

इनके यहाँ मिल रहा जखीरा
इनकम टैक्स अधिकारियों के अनुसार रायपुर महापौर एजाज डेबर, आईएएस अनिल टुटेजा, पार्लर संचालक मीनाक्षी टुटेजा, व्यापारी गुरचरण सिंह होरा के घर बड़ी मात्रा में नगदी और जेवर मिले मिले हैं. अभी जाँच जारी है.

तीन बैग जमीन के कागजात तो जमीन कितनी होगी?
सूत्रों प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व मुख्य सचिव एवं वर्तमान रेरा के अध्यक्ष विवेक ढांड के यहां 3 बैग जमीन के कागजात मिले हैं. सोचिये अगर जमीन के कागजात ही तीन बैग है तो जमीन कितनी होगी? अंदाजा लगाना मुश्किल है. सीए संचेती के घर 6 बैग से ज्यादा दस्तावेज मिले हैं. इन सभी दस्तावेजों को सीधे दिल्ली भेजा जा रहा है वहीं पर जांच होगी।

रुपयों से भरी मिली आलमारी, बुलाना बड़ा नोट गिनने की मशीन
आयकर इन्वेस्टिगेशन विंग के अधिकारियों ने बताया कि रायपुर के एक ठिकाने में दो अलमारी भरकर नोट मिले हैं. वही करोड़ों के हीरे से जुड़े जेवरात प्रॉपर्टी के दस्तावेज, विदेश में इन्वेस्टमेंट की भी जानकारी मिली है. आयकर अधिकारियों ने इसकी पुष्टि कर दी है. लेकिन अभी तक कुल संपत्ति की बरामदगी को लेकर कुछ नहीं कहा है.

मुख्यमंत्री की उपसचिव, ओएसडी और आबकारी के ओएसडी यहाँ छापे ने नेताओ की बढ़ाई मुश्किल
मुख्यमंत्री की उपसचिव सौम्या चौरसिया और ओएसडी मरकाम के यहाँ छापे ने राजनीतिज्ञों की मुस्किले बढ़ा हैं. इसे सीधे मुख्यमंत्री पर हमले से जोड़कर देखा जा रहा है। हालाँकि सौम्या चौरसिया ने अपना घर नहीं खोला और आईटी के अधिकारी दो दिन बाद घर सील कर दिए. उससे बड़ी बात यह है कि सूत्रों से मिली जानकारी आबकारी विभाग के ओएसडी ए.पी. त्रिपाठी के यहाँ छापे में दो डायरी मिली है जिसमे कई नेताओं से पैसे के लेनदेन का हिसाब है.

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *