करारी हार के बाद अखिलेश यादव ने हटायें सभी प्रवक्ता

लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद राजनीतिक दलों में कार्रवाइयों का दौर शुरू हो गया है. उत्तर प्रदेश में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरूवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए पार्टी के सभी प्रवक्ताओं का मनोनयन तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया है.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने इस आशय का पत्र सभी समाचार चैनलों को भेजा है. पत्र में पार्टी का पक्ष रखने के लिए किसी भी पदाधिकारी को आमंत्रित नहीं करने का अनुरोध किया गया है. पत्र की प्रतिलिपि सभी प्रवक्ता्ओं को भी भेजी गई है. गौरतलब है कि 27 अगस्त 2018 को पार्टी ने 2 दर्जन प्रवक्ताओं की भारी-भरकम टीम बनाई थी.इसमें राजीव राय, जूही सिंह, नावेद सिद्दीकी, जगदेव सिंह यादव, उदयवीर सिंह, घनश्याम तिवारी, सुनील सिंह यादव, संजय लाठर, सैय्यद अब्बास अली उर्फ रूश्दी मियां, राजपाल कश्यप, वंदना सिंह, शवेंद्र विक्रम सिंह, नासिर सलीम, अनुराग भदौरिया, अब्दुल हफीज गांधी, पवन पांडेय, प्रोफेसर अली खान, निधि यादव, राजकुमार भाटी, ऋचा सिंह, मनोज राय धुपचंडी, जितेंद्र उर्फ जीतू, फैजान अली किदवई और राम प्रताप सिंह शामिल थे. तब प्रवक्ता पद से हटाए जाने के बाद पंखुड़ी पाठक ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.यूपी की सियासत में कभी अपनी मुख्य प्रतिद्वंदी रही बसपा से गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतरी सपा को बेहतर प्रदर्शन की आस थी. लेकिन परिणाम ठीक उलट रहा. लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा. पार्टी 2014 से भी कम वोट शेयर पर सिमट गई.

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *