मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने नगर पंचायत नगर पालिका अध्यक्षों को पुनः वित्तीय अधिकार प्रदान किये जाने की घोषणा की

रायपुर, मुख्यमंत्री ने आज नगर पालिक एवं पंचायतों के अध्यक्षों को पुनः वित्तीय अधिकार प्रदत्त किए जाने की घोषणा की।  विकास कार्यों हेतु बड़ी घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री   भूपेश बघेल द्वारा प्रत्येक नगर निगम को आबादी एवं आवश्यकता के अनुसार 5 से दस करोड़ रुपए, 44 नगर पालिकाओं हेतु एक-एक करोड़ एवं 111 नगर पंचायतों हेतु 50-50 लाख रुपए प्रदान किए जाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल द्वारा आज नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा रेन वॉटर हार्वेस्टिंग के विषय पर आयोजित कार्यशाला में बड़ी घोषणा करते हुए स्वच्छता दीदियों के मानदेय में वृद्धि की घोषणा की। अब तक स्वच्छता दीदियों को कुल पांच हजार रूपए प्रति माह की मानदेय राशि प्राप्त होती थी। अब इसे छह हजार रूपए प्रति माह की बढ़ी हुई दर से मानदेय प्रदान किया जाएगा। इससे प्रदेश की दस हजार स्वच्छता दीदियों को सीधा लाभ मिलेगा। ज्ञात हो कि प्रदेश के 166 नगरीय निकायों में दस हजार स्वच्छता दीदियों के माध्यम से प्रतिदिन घर घर से गीले-सूखे  कचरे को एकत्रित किया जाता है। इन्हीं दीदियों के प्रयास के कारण मार्च महीने में राष्ट्रपति   रामनाथ कोविंद द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य को पुरस्कृत किया गया था।

जल संरक्षण हेतु गंभीर मुख्यमंत्री ने कहा कि रेन वाटर हार्वेस्टिंग हमारे लिए नई चीज नहीं है, हमारे पुरखे भी गुजरात और राजस्थान में पानी का संरक्षण करते थे। सबसे अच्छा जल संरक्षण का उदाहरण पोरबंदर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के घर में है। उनके घर में छत का पानी घर के आंगन में बने कुंए में एकत्र किया जाता था। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों के साथ-साथ गांवों की गलियों, सड़कोें और आंगन में कांक्रीटीकरण कर दिया गया है। जिसके कारण पानी जमीन के अंदर नहीं जा पाता। उन्होंने कहा कि लोग अपने आंगन से कुंए में छत का पानी एकत्र कर सकते हैं, असफल बोर रूफ वाटर हार्वेस्टिंग से जोड़ सकते है या छत का पानी जमीन के अंदर डाल सकते है। मुख्यमंत्री ने अपने घर का उदारहण देते हुए कहा कि उन्होंने वर्ष 2001 में ही अपने घर में रूफ वाटर हार्वेस्टिंग करवाई थी। इस गर्मियों में  मोहल्ले के बोर में पानी सूख गया लेकिन मेरे घर में पानी था।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए नगरीय प्रशासन एंव विकास मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने कहा कि प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में 47 हजार भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जिसके विरूद्ध अबतक 15 हजार 500 भवनों में यह कार्य पूरा कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पेयजल आवर्धन योजनाओं के माध्यम से 3 लाख 50 हजार परिवारों को उनके घर में नल कनेक्शन देकर पेयजल की आपूर्ति की जाएगी।  आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि ग्लोबल वार्मिग की वजह से मौसम बदल रहा है। चेरापूंजी में सबसे अधिक वर्षा होती थी लेकिन अब वहां एक-एक बूंद के लिए लड़ाई होती है। उन्होंने कहा कि पहले चेक डेम आदि बनाकर वाटर रिर्चाजिंग का प्रयास किया जाता था, लेकिन यह ज्यादा सफल नहीं हो पाया। राज्य सरकार द्वारा नरवा योजना के माध्यम से प्राकृतिक जल स्त्रोतों को पुर्नजीवित करने का प्रयास किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा ई-गर्वनेस परियोजना पर तैयार विभागीय पोर्टल, स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के लिए तैयार वीडियो, पौनी पसारी योजना के दिशा-निर्देशों पर ब्रोशर का विमोचन किया। श्री बघेल ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 पुरस्कार योजना के तहत प्रदेश के 23 नगरीय निकायों को सम्मानित किया। उन्होंने आवास योजना के अंतर्गत मोर प्रदर्शन – मोर सम्मान बुकलेट, मोर जमीन – मोर मकान मार्गनिर्देशिका, मोर मकान-मोर चिन्हारी मार्गनिर्देशिका का विमोचन किया। इसी तरह उन्होंने स्वच्छता मिशन के अंतर्गत नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी ’’सुघ्घर घर दुआरी पत्रक’’, स्वच्छता पॉकेट बुक, स्वच्छता सिरमौर-शहरी छत्तीसगढ़ बुकलेट, महिला स्वच्छता आर्मी बुकलेट और महिला स्वसहायता समूह के ब्रांडिग लोगो दुलारी का विमोचन किया। इस अवसर पर नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की विशेष सचिव श्रीमती अलरमेलमंगई डी. सहित नगर निगम, नगर पालिका और नगर पंचायतों के अध्यक्ष, सभापति, नगरीय विकास विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पर आयोजित कार्यशाला में स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 मेें राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले छत्तीसगढ़ के विभिन्न नगर पंचायतों, नगरपालिका परिषदों और नगर निगमों के नगरीय निकायों को सम्मानित किया।
मुख्यमंत्री ने स्वच्छता कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्तर पर देश के दूसरे स्वच्छ शहर के रूप में चयनित नगर पालिक निगम, अंबिकापुर के महापौर डॉ. अजय तिर्की, सभापति श्री मोहम्मद शफी अहमद, आयुक्त ्रीमनोज सिंह, नोडल अधिकारी श्री रमेश सिंह को सम्मानित किया। उन्होंने इसी तरह राष्ट्रीय स्तर पर नेशनल सेनिटेशन सिटी के रूप में चयनित नगर पालिका निगम, भिलाई के महापौर श्री देवेन्द्र यादव, सभापति श्री श्याम संुदरराव, आयुक्त श्री सुदेश कुमार संुदरानी, नोडल अधिकारी श्री आर.के.साहू को सम्मानित किया गया है।
इसी प्रकार 10 लाख से अधिक जनसंख्या वाले शहरों में राष्ट्रीय स्तर पर फास्टेस्ट मुवर बिग सिटी के रूप में चयनित नगर पालिका निगम रायपुर के महापौर श्प्रमोद दुबे, सभापति ्रीप्रफुल्ल विश्वकर्मा, आयुक्त   शिव अनंत तायल, नोडल अधिकारी श्हरेन्द्र साहू को सम्मानित किया गया है।
मुख्यमंत्री ने 50 हजार से एक लाख तक की जनसंख्या वाले शहरों में राष्ट्रीय स्तर पर क्लीनेस्ट सिटी ईस्ट जोन के रूप में चयनित नगर पालिका निगम भिलाई-चरौदा के महापौर चंद्रकांता माण्डले, सभापति  विजय जैन, आयुक्त  चंदन शर्मा, नोडल अधिकारी   मोहनपुरी गोस्वामी को तथा एक लाख से कम जनसंख्या वाले शहरों में राष्ट्रीय स्तर पर दूसरे क्लीनेस्ट सिटी ईस्ट जोन के रूप में चयनित नगर पालिका परिषद विश्रामपुर के अध्यक्ष  राजेश यादव, सीएमओ  युफरिसिया एक्का, नोडल अधिकारी नीतिश गुप्ता तथा एक लाख से कम जनसंख्या वाले शहरों में राष्ट्रीय स्तर पर तीसरे क्लीनेस्ट सिटी ईस्ट जोन नगर पालिका परिषद जशपुर के चयनित होने पर इसके अध्यक्ष   हिरूराम निकुंज, सीएमओ  जितेन्द्र कुशवाहा और नोडल अधिकारी  वसुंधरा भगत को सम्मानित किया

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *