रायपुर. छत्तीसगढ़ के वन मंत्री महेश गागड़ा को जान से मारने की साजिश रची जा रही है. ये साजिश नक्सली रच रहे है. ऐसा खुफिया एजेंसियों का कहना है. खुफिया रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि नक्सलियों ने महेश गागड़ा को मारने के लिए एक टीम गठित की है. जिसके बाद उन्हें सतर्कता बरतने को कहा गया है. उसकी सुरक्षा बढ़ा दी गई है. साथ ही उनके आलावा बीजापुर के बाकी जनप्रतिनिधियों की सुरक्षा भी बढ़ाई गई है. इसके पहले भी उन पर हमला करने की कोशिश की गई थी. लेकिन उन्हें कुछ नहीं हुआ था. गागड़ा घोर नक्सल प्रभावित इलाके बीजापुर में रहते हैं. यही उनका गृह नगर और विधानसभा सीट है.

महेश गागड़ा प्रदेश के सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिले बीजापुर के विधायक हैं। वे शुरू से नक्सलियों का विरोध करते रहे हैं। इससे पहले भी उन पर कई बार जानलेवा हमला हो चुका है, हर बार किस्मत से ही वे बचते रहे हैं।

विश्वस्त सूत्रों ने बताया कि गागड़ा को मारने के लिए 15 अगस्त या 26 जनवरी का अवसर तय किया गया था। पिछले 15 अगस्त को उन्हें टारगेट में लेने की कोशिश भी की गई थी, जो विफल रही। नक्सलियों ने महेश गागड़ा को मारने की जिम्मेदारी बटालियन कमांडर एकाम ईडमा और विज्जा को सौंपी है।

ईडमा के साथ आठ सौ नक्सलियों की फोर्स रहती है। नक्सलियों ने रणनीति बनाई है कि सड़क मार्ग से भैरमगढ़ जाते वक्त उन्हें निशाने पर लिया जा सकता है। बताया गया है कि इस बारे में जंगल में हुई एक बैठक में विस्तृत चर्चा की गई थी। कहा गया था कि मंत्री जब गाड़ी में सड़क मार्ग से जाते हैं तब उनके साथ फोर्स के सौ जवान होते हैं। तीन सौ नक्सली हमला करें तो उन्हें मारा जा सकता है।

इस खुफिया इनपुट ने फोर्स की नींद भी उड़ा दी है। चुनावी मौसम में गागड़ा ज्यादातर वक्त अपने गृहनगर भैरमगढ़ में ही रुकते हैं। वहां से बीजापुर जिले के हर गांव में दौरा कर रहे हैं।

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *