पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान अपने देश में बुरी तरह से घिर गए

नरेंद्र मोदी सरकार ने अनुच्छेद 370 के जरिए जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जा खत्म करते हुए उसे केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है. मोदी सरकार के इस कदम के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने देश में बुरी तरह घिर गए हैं. जम्मू-कश्मीर पर भारतीय नेतृत्व के फैसले पर आगे की रणनीति तय करने के लिए पाकिस्तान की संसद में मंगलवार को संयुक्त सत्र बुलाया गया था. संसद में जब प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर मुद्दे पर उठे सवालों का जवाब दे रहे थे तो उनके हाव-भाव में झल्लाहट साफ नजर आई है, संसद में विपक्ष के नेता शाहबाज शरीफ के सवालों का जवाब देते हुए इमरान ने अपना आपा खो दिया. उन्होंने विपक्ष से सलाह मांगते हुए कहा कि आप ही बताएं कि कश्मीर में भारतीय कार्रवाई के जवाब में उनकी सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए. इमरान ने कहा, आखिर मैंने कौन सा कदम नहीं उठाया है, हमारा विदेश मंत्रालय तमाम देशों के राजदूतों के साथ बैठक कर रहा है. मैं दूसरे देशों के साथ भी संपर्क कर रहा हूं. अंतरराष्ट्रीय मंच से भी मदद मांग रहे हैं. शरीफ बताएं कि अब मुझे और क्या करना चाहिए?

इमरान ने आगे कहा, हम संयुक्त राष्ट्र में सालों से गुहार लगा रहे हैं, हमने इस्लामिक सहयोग संगठन से भी कल बात की. कौन सी चीज है जो मैंने नहीं की, जो विपक्ष हमें ललकार रहा है. हम क्या हिंदुस्तान पर हमला कर दें?पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार तमाम पड़ोसी देशों के साथ अच्छे ताल्लुकात चाहती थी इसीलिए उन्होंने अफगानिस्तान, ईरान और भारत से संवाद करने की कोशिश की. इमरान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने हमारी बात समझने के बजाय चुनाव में फायदा उठाने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ बयान दिए. युद्ध की चेतावनी देते हुए इमरान ने आगे कहा, अगर पारंपरिक युद्ध होता है तो दो नतीजे हो सकते हैं. युद्ध हमारे खिलाफ जा सकता है या हमारे हक में हो सकता है. अगर युद्ध हमारे खिलाफ जाता है तो एक रास्ता होगा कि हम हाथ खड़े कर हार मान लें और दूसरा रास्ता होगा- टीपू सुल्तान की तरह खून के आखिरी कतरे तक मुकाबला करें. अगर हम आखिरी कतरे तक लड़ते हैं तो फिर इस जंग को कोई नहीं जीत पाएगा. सब हार जाएंगे. उसका असर पूरी दुनिया पर पड़ेगा. मैं परमाणु युद्ध की धमकी नहीं दे रहा हूं. मैं सामान्य समझ की अपील कर रहा हूं. अच्छे की उम्मीद करिए लेकिन सबसे खराब परिस्थिति के लिए भी तैयार रहिए.

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *