राजेंद्र कुमार राय ने बीजेपी और कांग्रेस पार्टी में शामिल हो रहे आईएएस और आईपीएस अफसरों को लेकर एक बड़ा बयान दिया

बालोद। प्रदेश की राजनीति इन दिनों आईएएस और आईपीएस की राजनीतिक पार्टी ज्वाइन करने को लेकर चर्चा में हैं। जहां एक और महज 13 साल की IAS की नौकरी छोड़कर रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी ने भाजपा में प्रवेश लिया। तो वहीं इस फेहरिस्त में कई और नाम जुड़ने लगे हैं। हालांकि इन नामों में ऐसा कोई भी नाम नहीं है जो कि अपनी वर्तमान नौकरी छोड़कर पार्टी में जुड़ा हो। ये आईएएस और आईपीएस अपने रिटायरमेंट के बाद कांग्रेस पार्टी को ज्वाइन कर रहे हैं। इनमें पूर्व आईएएस त्यागी जो कि कोरबा में कलेक्टर रह चुके हैं। तो वहीं पूर्व आईएएस सर्जियस मिंज का भी नाम कांग्रेस से जुड़ने के बाद चर्चा में है। हालांकि इससे पूर्व कई आईएएस और आईपीएस राजनीतिक पार्टी का दामन थाम चुके हैं। जैसे कि आईएएस और आईपीएस रहे अजीत प्रमोद कुमार जोगी का भी नाम इस लिस्ट में आता है। जो नौकरी छोड़कर राजनीति में आए थे।

जिले के गुंडरदेही से कांग्रेसी विधायक और जोगी समर्थक राजेंद्र कुमार राय ने हाल ही में बीजेपी और कांग्रेस पार्टी में शामिल हो रहे आईएएस और आईपीएस अफसरों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि यह सब लोग जोगी और राजेंद्र राय की नकल कर रहे हैं। ऐसे लोगों को अगर किस्मत से चुनाव में जीत मिल गई तब तो सब ठीक रहेगा लेकिन कहीं अगर यह लोग हार गए तो इनकी हालत ‘धोबी का कुत्ता न घर का न घाट का’ जैसी हो जाएगी। यही नहीं राय ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस में टीएस बाबा के अलावा कोई और पढ़ा-लिखा विद्वान है ही नहीं। बाकी सब तो दाऊ छाप हैं।

पत्रकारों से बात करते हुए आरके राय ने कांग्रेस पर तंज कसा कि कांग्रेस में कोई इतना समझदार नहीं है जो आईएएस और आईपीएस की कद्र कर सके। यही वजह है कि राहुल गांधी के सामने कांग्रेस ज्वाइन करने वाले 3 आईएएस जीएस धनंजय, मिंज और नेताम जो कि तीनों कलेक्टर रह चुके हैं, इन लोगों को टिकट नहीं दिया गया था। इसीलिए इनमें से आईएएस धनंजय अब जनता जोगी के साथ आ गए हैं। बहरहाल, यह तो आने वाला विधानसभा और लोकसभा चुनाव ही बता पायेगा कि आईएएस और आईपीएस को मतदाता और राजनीतिक पार्टी कितना समझ पाई है।

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *