बीजेपी सांसद रमा देवी ने कहा:आज़म खान हीरो बनने आया था मै उसे जीरो बनाने आई हु

नई दिल्ली, समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान को राहत मिलती हुई नजर नहीं आ रही है. लोकसभा सदस्यों ने शुक्रवार को आजम खान की बीजेपी सांसद रमा देवी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की निंदा की. सदस्यों ने सर्वसम्मति से आजम के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की. लोकसभा अध्यक्ष ने इस मामले में जल्द फैसला लेने का आश्वासन दिया है. वहीं रमा देवी ने शुक्रवार को कहा कि आजम खान हीरो बनने आया है, मैं उसे जीरो बनाने आई हूं.

रमा देवी ने कहा, संसद में मुझे जनता ने प्रेम से यहां भेजा है. आजम खान की बोली में गंदगी से मुझे बहुत परेशानी हुई है. सांसद की एक गरिमा होती है. जब अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठने वाली महिला से आजम खान इस प्रकार की भाषा इस्तेमाल कर सकते हैं तो साधारण महिला से कैसे बात करते होंगे? आजम की बातें बहुत पीड़ा देने वाली होती हैं.

रमा देवी बोलीं, आजम खान को हम लोग कभी भी माफ नहीं करेंगे. ये अशोभनीय है. आजम खान के बयान से सांसद की गरिमा को ठेस पहुंची है. सांसद को काम करने के लिए लाखों वोट देकर संसद भेजा गया है. आज जनता बहुत परेशानी होगी.

अखिलेश यादव ने भी संसद में आजम खान के बयान का बचाव किया है. जब इस बारे में रमा देवी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इन लोगों को इस प्रकार की बात बोलते-बोलते आदत पड़ गई है. यूपी में भी इन्होंने इसी प्रकार से सरकार चलाई. हमारे योगी जी को बिगड़े माहौल में संभालने में बहुत दिक्कत हो रही है. यूपी के लोग भयभीत रहते हैं. आजम खान जैसे लोगों का तो संसद में रहना भी उचित नहीं है. हम अगर सांसद की कुर्सी पर आए हैं तो सबको सम्मान देने के लिए आए हैं.

रमा देवी ने कठोर शब्दों में कहा कि अगर आजम खान को बोलने की अक्ल नहीं है तो इस बार सीख जाएंगे. मैं तो चाहती हूं कि अगर उस दिन माफी मांग लेते तो मैं माफ कर देती. सोमवार को माफी मांगने के बाद अध्यक्ष जी कहेंगे तो मैं माफ करूंगी. आजम खान ने अगर माफी नहीं मांगी तो हम ऐसा कदम उठाएंगे कि उन्हें जीवनभर याद रहेगा कि किसी महिला को कैसे देखना चाहिए?

इसके साथ रमा देवी ने आजम खान की सदस्यता रद्द करने की भी मांग की. उन्होंने कहा कि आजम खान खुद को बहुत बड़ा हीरो समझते हैं. हीरो को जीरो बनाने के लिए रमा देवी आई हैं. इनका चरित्र उजागर किया जाएगा.

SHARE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *